Ek shahar chhota sa

words of heart

7 Posts

1 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12983 postid : 807291

ये मोहब्बत है…

Posted On: 24 Nov, 2014 Others,कविता,Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कभी देखा है,
हवाओं पे पांवों के निशान।

हाँ ये मोहब्बत है ,
और मोहब्बत में मुमकिन है।

अरमानों के पंख होते है ,
बादलों पे घर होता है ।

कभी सुनी है,
दो जवां दिलों की गुफ्तगू ।

हाँ ये मोहब्बत है,
और मोहब्बत में मुमकिन है ।

जब धड़कनें उफान पर होती है ,
तो बंद, खुली , अधखुली आँखें
करती है ढेरो बातें।

निरेन
nirenchandra@ymail.com

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran