Ek shahar chhota sa

words of heart

7 Posts

1 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12983 postid : 3

सब कहते है….

Posted On: 19 Oct, 2012 Others,कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

सब कहते है….
सब कहते है कि मैं उन में से नहीं ,
जो लोग इर्ष्या करते हैं I
तो क्यूं पड़ोसियों की तरक्की पर
झूठी मुस्कान बिखेरते हैं !
सब कहते है कि मैं उन में से नहीं ,
लोग जो बदल जाते हैं I
तो क्यूं जरूरतों में अजनबी हो जाते हैं लोग
सब कहते है कि मैं उन में से नहीं
जो लालच करते हैं I

तो क्यूं बाज़ारों में हर चीज बिकने को तैयार है!
सब कहते है कि मैं उन में से नहीं,
जो झूठ कहा करते I
तो क्यूं पांच साल सिर्फ आश्वासन में ही गुजर जाते हैं !
हर आदमी अहम् की चादर ओढ़े,
यही कहता है कि
मैं उनमें से नहीं I
कहने के बजाय खुद से पूछ ले
क्या मै सचमुच उनमें से नहीं ………?

निरेन चंद्रा

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran